॥ श्रीवराहाष्टोत्तरशतनामावलिः ॥

द्रष्टव्यं :
स्तोत्रेषु कुत्रापि अशुद्धो विद्यते तु अधः कमेन्टकोष्ठे संसूचयन्तु तेन महान्तः धन्यवादाः

॥ श्रीवराहाष्टोत्तरशतनामावलिः ॥ 

ॐ श्रीवराहाय नम:
ॐ महीनाथाय नम:
ॐ पूर्णानन्दाय नम:
ॐ जगत्पतये नमः
ॐ निगुर्णाय नमः
ॐ निष्कलाय नमः
ॐ अनन्ताय नम:
ॐ दण्डकान्तकृते नमः
ॐ अव्ययाय नमः
ॐ हिरण्याक्षान्तकद्देवाय नम: १०
ॐ पूर्णषागण्यविग्रहाय नमः
ॐ लयोदधिविहारिणे नम:
ॐ सर्वप्राणिहितेरताय नमः
ॐ अनन्तरूपाय नम:
ॐ अनन्तश्रिये नमः
ॐ जितमन्यवे नमः
ॐ भयापहाय नम:
ॐ वेदान्तवेद्याय नमः
ॐ वेदिने नमः
ॐ वेदगर्भाय नमः
ॐ सनातनाय नम:
ॐ सहस्राक्षाय नमः
ॐ पुण्यगन्धाय नमः
ॐ कल्पकृते नमः
ॐ क्षितिभृद्धरये नमः
ॐ पद्मनाभाय नमः
ॐ स्राध्यक्षाय नमः
ॐ हेमाङ्गाय नमः
ॐ दक्षिणामुखाय नम:
ॐ महाकोलाय नमः
ॐ महाबाहवे नमः
ॐ सर्वदेवनमस्कृताय नमः
ॐ हृषीकेशाय नम:
ॐ प्रसन्नात्मने नमः
ॐ सर्वभक्तभयापहाय नम:
ॐ यज्ञभृते नम:
ॐ यज्ञकृते नम:
ॐ साक्षिणे नम:
ॐ यज्ञाङ्गाय नमः
ॐ यज्ञवाहनाय नमः
ॐ हव्यभुजे नमः
ॐ सदाव्यक्ताय नमः
ॐ कृपाकराय नमः
ॐ देवभूमिगुरवे नम:
ॐ कान्ताय नमः
ॐ धर्मगुह्याय नम:
ॐ वृषाकपये नम:
ॐ स्रुक्तुण्डाय नम:
ॐ वक्रदंष्ट्राय नमः ५०
ॐ नीलकेशाय नमः
ॐ महाबलाय नम:
ॐ पूतात्मने नमः
ॐ वेदनेत्रे नमः
ॐ वेदहर्तृशिरोहराय नम:
ॐ वेदादिकृते नम:
ॐ वेदगुह्याय नमः
ॐ सर्ववेदप्रवर्तकाय नमः
ॐ गभीराक्षाय नम:
ॐ त्रिधर्मणे नमः ६०
ॐ गम्भीरात्मने नम:
ॐ महेश्वराय नमः
ॐ आनन्दवनगाय नमः
ॐ दिव्याय नमः
ॐ ब्रह्मणासासमुद्भवाय नम:
ॐ हव्यदेवाय नमः
ॐ सिन्धुतीरनिवासिने नमः
ॐ क्षेमकृते नमः
ॐ सात्वतांपतये नमः
ॐ इन्द्रत्रात्रे नम:
ॐ जगत्त्रात्रे नमः ७०
ॐ महेन्द्रोद्दण्डगर्वघ्ने नमः
ॐ भक्तवश्याय नमः
ॐ सदोद्युक्ताय नमः
ॐ निजानन्दाय नम:
ॐ रमापतये नम:
ॐ स्तुतिप्रियाय नम:
ॐ शुभाङ्गाय नम:
ॐ पुण्यश्रवणकीर्तनाय नमः
ॐ सत्यकृते नम:
ॐ सत्यसंकल्पाय नम: ८०
ॐ सत्यवाचे नम:
ॐ सत्यविक्रमाय नम:
ॐ सत्येनगूढाय नम:
ॐ सत्यात्मने नमः
ॐ कालातीताय नम:
ॐ गुणाधिकाय नमः
ॐ परस्मैज्योतिषे नमः
ॐ परस्मैधाम्ने नम:
ॐ परमाय नमः
ॐ पुरुषाय नमः ९०
ॐ पराय नम:
ॐ कल्याणकृते नमः
ॐ कवये नम:
ॐ कर्त्रे नमः
ॐ कर्मसाक्षिणे नम:
ॐ जितेन्द्रियाय नम:
ॐ कर्मकृते नमः
ॐ कर्मकाण्डस्य संप्रदायप्रवर्तकाय नमः
ॐ सर्वान्तकाय नमः
सर्वगाय नमः १००
ॐ सर्वार्थाय नम:
ॐ सर्वरक्षकाय नमः
ॐ सर्वलोकपतये नमः
ॐ श्रीमते नमः
ॐ श्रीमुष्णेशाय नमः
ॐ शुभेक्षणाय नमः
ॐ सर्वदेवप्रियाय नमः
ॐ साक्षिणे नमः १०८

श्रीवराहाष्टोत्तरशतनामावलिः

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *